Maharashtra: विधानसभा चुनाव से पहले बदलेगी महाराष्ट्र की राजनीति? भतीजे अजित ने चाचा शरद को दिया धन्यवाद


sharad pawar and ajit pawar- India TV Hindi

Image Source : FILE PHOTO
शरद पवार की अजित पवार ने की तारीफ

लोकसभा चुनाव में एनसीपी (अजित गुट) को मिली करारी हार के कुछ दिनों बाद ही एनसीपी नेता और महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने सोमवार को पार्टी के स्थापना दिवस के मंच से चाचा शरद पवार को धन्यवाद दिया। अजित पवार ने 1999 में अपनी स्थापना के बाद से पार्टी का नेतृत्व करने के लिए अपने चाचा शरद पवार को धन्यवाद दिया। अजीत पवार ने कहा, “मैं पिछले 24 वर्षों से पार्टी का नेतृत्व करने के लिए शरद पवार को धन्यवाद देना चाहता हूं, साथ ही उन लोगों को भी धन्यवाद देना चाहता हूं जो इसकी स्थापना के बाद से इसके साथ बने हुए हैं।”

मुंबई में एक पार्टी समारोह को संबोधित करते हुए, अजीत पवार ने नरेंद्र मोदी 3.0 सरकार में कैबिनेट पद से कम किसी भी पद पर समझौता नहीं करने के राकांपा के रुख की पुष्टि की। उन्होंने कहा, “हमने भाजपा को स्पष्ट कर दिया है कि हम कैबिनेट पोर्टफोलियो से कम कोई पद स्वीकार नहीं करेंगे। उन्होंने हमसे कहा कि उन्हें अपने कई घटकों को कैबिनेट पद देने की जरूरत है।”

अजित पवार ने कहा-हम अभी भी एनडीए का हिस्सा हैं

अजित पवार के इस बयान से भाजपा से उनकी दूरी और चाचा शरद पवार की निकटता दिखाई दे रही है। ऐसे में राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए लगता है कि महाराष्ट्र में राजनीति में बड़ी फेरबदल हो सकती है। हालांक मोदी की नई कैबिनेट में जगह नहीं मिलने से नाराज अजित पवार ने कहा, “हम अभी भी एनडीए का हिस्सा हैं।” उन्होंने यह भी दावा किया कि एनडीए की वर्तमान ताकत 284 है जो आने वाले महीनों में 300 का आंकड़ा पार कर जाएगी।

इस बार के लोकसभा चुनाव में चाचा शरद पवार की पार्टी ने अच्छा प्रदर्शन किया है और भतीजे अजित पवार के नेतृत्व में एनसीपी ने लड़ी गई चार सीटों में से केवल एक पर ही जीत दर्ज करने में कामयाब रही, जबकि शरद पवार ने दस में से आठ सीटों पर जीत हासिल की है। चुनाव में अजित पवार की पत्नी सुनेत्रा पवार, बारामती में मौजूदा सांसद सुप्रिया सुले से हार गईं।

एनसीपी तोड़कर महायुति में चले गए थे अजित पवार

अजित पवार ने जुलाई 2023 में शरद पवार द्वारा स्थापित की गई एनसीपी को तोड़ दिया और नई एनसीपी बनाकर वह महाराष्ट्र में शिवसेना-भाजपा सरकार में शामिल हो गए। डिप्टी सीएम ने कहा, “मैं सभी को आश्वस्त कर सकता हूं कि हमारी विचारधारा शिवाजी महाराज, शाहू महाराज, महात्मा फुले और बाबासाहेब अंबेडकर की शिक्षाओं पर आधारित है।” उन्होंने स्वीकार किया कि पार्टी नेता सुनील तटकरे ने रायगढ़ लोकसभा सीट जीतकर राकांपा की छवि बरकरार रखी।

ये भी पढ़ें:

Maharashtra: लोकसभा के बाद अब विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरू, सीएम शिंदे की आज अहम बैठक

कैबिनेट बनते ही एक्शन में मोदी सरकार, आज कौन मंत्री कितने बजे से संभालेगा पदभार? जानें पूरी डिटेल



Leave a Comment